वो खाली होती है हमेशा।
जब भी सवाल हो,क्या कर रही हो ?
जबाब आता है
कुछ भी तो नहीं
हाँ कुछ भी तो नहीं करती वो
बस तड़के उठती है दूध लाने को
फिर बनाती है चाय
जब सुड़कते हैं बैठके बाकी सब
तब वो बुहारती है घर का मंदिर
फिर आ जाती है कमला बाई
फिर वो कुछ नहीं करती
हाँ बस काटती रहती है चक्कर उसके पीछे
लग लग के साथ उसके
निबटाती है काम दिन के
बनाकर खिलाती है नाश्ता
और रम जाती है उस नन्हें बच्चे में
जो कूदता है उसकी पीठ पर, कन्धों पर
करता है मनमानी, उठाकर कर फेंकता है सामान 
पर वो कुछ नहीं करती 
बस समेटती रहती है सब कुछ
कुछ नहीं कहती
वो तो खेलती है उसके संग
सो गया बालक
चलो अब चाय का समय है
साथ साथ कटती है तरकारी
बीच में आता है प्रेस वाला
और भी न जाने कौन कौन वाला
भाग भाग कर देखेगी सबको
फिर बनाएगी खाना रात का
बस परोसेगी, खिलाएगी जतन से
फिर खुद भी खाकर
बैठ जायेगी टीवी के सामने
देखने कोई भी सीरियल ,
जो भी चल रहा हो उसपर
और बैठे बैठे ही मुंद जाएँगी उसकी बोझिल आँखें
आखिर किया ही क्या उसने
करती ही क्या है वो सारा दिन
कुछ भी तो नहीं .