नवीनतम प्रविष्ठियां सभी देखें

नहीं मिलती

नहीं मिलती

जाने किसने छिड़क दिया है तेज़ाब बादलों पर, कि बूंदों से अब तन को ठंडक नहीं मिलती. बरसने को तो बरसती है बरसात अब भी…'

Leave a comment 355 दृश्य

सृजन का सुख

सृजन का सुख

दिनांक 14 अगस्त 2017 को मुझे सूचना मिली है कि 'संत गाडगे बाबा अमरावती विश्वविद्यालय, अमरावती' के बी.कॉम. प्रथम वर्ष, हिंदी (अनिवार्य) पाठ्यक्रम के अंतर्गत…'

2 Comments 617 दृश्य

सावन का वह सोमवार

सावन का वह सोमवार

लड़कियों का स्कूल हो तो सावन के पहले सोमवार पर पूरा नहीं तो आधा स्कूल तो व्रत में दिखता ही था. अपने स्कूल का भी…'

Leave a comment 283 दृश्य

“प्रवासी पुत्र” एक संक्षिप्त टिप्पणी

“प्रवासी पुत्र” एक संक्षिप्त टिप्पणी

कुछ दिन पहले ही मुझे डाक से "प्रवासी पुत्र" (काव्य संग्रह) प्राप्त हुई है. कवर खोलते ही जो पन्ने पलटने शुरू किये तो एक के…'

104 Comments 10609 दृश्य

नंबर रेस का औचित्य?

नंबर रेस का औचित्य?

10वीं 12वीं का रिजल्ट आया. किसी भी बच्चे के 90% से कम अंक सुनने में नहीं आये. पर इतने पर भी न बच्चा संतुष्ट है…'

70 Comments 1287 दृश्य

“शौर्य गाथाएँ” (पुस्तक परिचय)

“शौर्य गाथाएँ” (पुस्तक परिचय)

शौर्य गाथाएँ - जैसा कि शीर्षक से ही अंदाजा हो जाता है कि यह संकलन वीरों के पराक्रम और त्याग की कहानियों से भरा होगा. यह…'

75 Comments 926 दृश्य

सर्वप्रिय प्रविष्ठियां

जाने किसने छिड़क दिया है तेज़ाब बादलों पर, कि बूंदों से अब तन को ठंडक नहीं मिलती. बरसने को तो बरसती है बरसात अब भी यूँही, पर मिट्टी को अब उससे तरुणाई नहीं मिलती. खो गई है माहौल से सावन की वो नफासत, अब सीने में किसी के वो हिलोर…

निशा नहीं शत्रु, बस सुलाने आती है, चली जाएगी हो कितना भी गहन अन्धेरा, उषा अपनी राह बनाएगी समय की डोर थाम तू, मन छोड़ दे बहती हवा में वायुवेग के संग सुगंध फिर, तेरा जी महकाएगी. कार्य नियत उसे उतना ही, है जितनी सामर्थ्य जिसकी गांडीव मिला अर्जुन को…

लड़कियों का स्कूल हो तो सावन के पहले सोमवार पर पूरा नहीं तो आधा स्कूल तो व्रत में दिखता ही था. अपने स्कूल का भी यही हाल था. सावन के सोमवारों में गीले बाल और माथे पर टीका लगाए लडकियां गज़ब खूबसूरत लगती थीं. ऐसे में अपना व्रती न होना…

कैलेंडर