नवीनतम प्रविष्ठियां सभी देखें

अभी स्वर्णमयी लंका …

अभी स्वर्णमयी लंका …

मोस्को में मेरी एक बहुत अच्छी मित्र थी श्रीलंका की... इतना अच्छा चिकेन बनाती  थी ना ...रहने दीजिये वर्ना बाकी पोस्ट नहीं लिखी जाएगी .और इसका…'

77 Comments 358 दृश्य

गणपति आये लन्दन में .

गणपति आये लन्दन में .

राष्ट्र मंडल खेल खतरे  में हैं क्यों?  क्योंकि एक जिम्मेदारी भी ठीक से नहीं निभा सकते हम .बड़े संस्कारों की दुहाई देते हैं हम. "…'

61 Comments 1369 दृश्य

ये क्या हुआ ……

ये क्या हुआ ……

रहे बैठे यूँ चुप चुप पलकों को इस कदर भींचे कि थोडा सा भी गर खोला ख्वाब गिरकर खो न जाएँ . थे कुछ बचे -खुचे सपने नफासत से उठा के मैने सहेज लिया था इन पलकों में  जो खोला एक दिन कि अब निहार लूं मैं जरा सा उनको तो पाया मैंने ये कि सील गए थे सपने आँखों के खारे पानी से '

59 Comments 293 दृश्य

कहाँ बुढापा ज्यादा .

कहाँ बुढापा ज्यादा .

कुछ समय पहले एक परिचित भारत से लन्दन आईं थीं घूमने ..कहने लगीं यहाँ के  बुड्ढों  को देखकर कितना अच्छा लगता है ..कितने भी बूढ़े हो जाये…'

73 Comments 4075 दृश्य

स्टेशन की बैंच से कॉन्वोकेशन के स्टेज तक.(संस्मरण की आखिरी किश्त )

स्टेशन की बैंच से कॉन्वोकेशन के स्टेज तक.(संस्मरण की आखिरी किश्त )

मॉस्को  स्टेट यूनिवर्सिटी अभी तक आपने पढ़ा कि कैसे हमारा वेरोनिश से मॉस्को  जाना तय हो गया था और हम हंसी ख़ुशी तैयारियों  में लग गये थे कि…'

67 Comments 330 दृश्य

दो दिन, स्कॉटस और बैग पाइप .

दो दिन, स्कॉटस और बैग पाइप .

आइये आज आपको ले चलती हूँ एडिनबर्ग   .स्कॉट्लैंड की राजधानी.-  स्कॉट्लैंड- जो १७०७ से पहले एक  स्वतंत्र राष्ट्र था , अब इंग्लैंड का एक हिस्सा…'

54 Comments 313 दृश्य

सर्वप्रिय प्रविष्ठियां

Nothing Found

It seems we can’t find what you’re looking for. Perhaps searching can help.

कैलेंडर