नवीनतम प्रविष्ठियां सभी देखें

यूँ ही बैठे ठाले ..

यूँ ही बैठे ठाले ..

अभी कुछ दिन पहले मुझे ये ख्याल आया था कि खाली दिमाग कवि का घर ...ये बात कही तो मैंने बहुत ही लाईट मूड में…'

70 Comments 62 दृश्य

थेम्ज क्रूज ..मेरी नजर से :)

थेम्ज क्रूज ..मेरी नजर से :)

आइये आज आप सबको ले चलती हूँ रिवर थेम्स के क्रूज पर. नदी के किनारे बहुत सी  एतिहासिक इमारतें हैं और उनकी एक अपनी पहचान भी…'

37 Comments 103 दृश्य

चाँद और मेरी गाँठ

चाँद और मेरी गाँठ

चाँद हमेशा से कल्पनाशील लोगों की मानो धरोहर रहा है खूबसूरत महबूबा से लेकर पति की लम्बी उम्र तक की सारी तुलनाये जैसे चाँद से…'

59 Comments 148 दृश्य

इसरार बादल का

इसरार बादल का

आज मुस्कुराता सा एक टुकडा बादल का  मेरे कमरे की खिड़की से झांक रहा था  कर रहा हो वो इसरार कुछ जैसे  जाने उसके मन…'

60 Comments 59 दृश्य

क्या करें क्या न करें ..ये कैसी मुश्किल हाय …

क्या करें क्या न करें ..ये कैसी मुश्किल हाय …

दूसरे  कमरे  से आवाज़े आ रही थीं .एक पुरुष स्वर -.." इतना बड़ा हो गया किसी काम का नहीं है ...इतने बड़े बच्चे क्या क्या…'

61 Comments 93 दृश्य

भुन रहा है लन्दन ..

भुन रहा है लन्दन ..

जी हाँ झुलस रहा है लन्दन. यहाँ  पारा  आज  ३२ डिग्री तक पहुँच गया है जो अब तक के  साल का  का सबसे गरम दिन…'

50 Comments 83 दृश्य

सर्वप्रिय प्रविष्ठियां

Nothing Found

It seems we can’t find what you’re looking for. Perhaps searching can help.

कैलेंडर