नवीनतम प्रविष्ठियां सभी देखें

नहीं मिलती

नहीं मिलती

जाने किसने छिड़क दिया है तेज़ाब बादलों पर, कि बूंदों से अब तन को ठंडक नहीं मिलती. बरसने को तो बरसती है बरसात अब भी…'

Leave a comment 15 दृश्य

सृजन का सुख

सृजन का सुख

दिनांक 14 अगस्त 2017 को मुझे सूचना मिली है कि 'संत गाडगे बाबा अमरावती विश्वविद्यालय, अमरावती' के बी.कॉम. प्रथम वर्ष, हिंदी (अनिवार्य) पाठ्यक्रम के अंतर्गत…'

Leave a comment 26 दृश्य

नंबर रेस का औचित्य?

नंबर रेस का औचित्य?

10वीं 12वीं का रिजल्ट आया. किसी भी बच्चे के 90% से कम अंक सुनने में नहीं आये. पर इतने पर भी न बच्चा संतुष्ट है…'

5 Comments 81 दृश्य

“शौर्य गाथाएँ” (पुस्तक परिचय)

“शौर्य गाथाएँ” (पुस्तक परिचय)

शौर्य गाथाएँ - जैसा कि शीर्षक से ही अंदाजा हो जाता है कि यह संकलन वीरों के पराक्रम और त्याग की कहानियों से भरा होगा. यह…'

2 Comments 62 दृश्य

वह जीने लगी है…

वह जीने लगी है…

अब नहीं होती उसकी आँखे नम जब मिलते हैं अपने अब नहीं भीगतीं उसकी पलके देखकर टूटते सपने। अब नहीं छूटती उसकी रुलाई किसी के उल्हानो…'

16 Comments 100 दृश्य

एक अंतहीन कथा –

एक अंतहीन कथा –

एक बड़े शहर में एक आलीशान मकान था. ऊंची दीवारें, मजबूत छत, खूबसूरत हवादार कमरे और बड़ी बड़ी खिड़कियाँ जहाँ से ताज़ी हवा आया करती…'

4 Comments 56 दृश्य

अपना भविष्य अपने हाथ…

अपना भविष्य अपने हाथ…

“महिला लेखन की चुनौतियाँ और संभावना” महिला लेखन की चुनौतियां - कहाँ से शुरू होती हैं और कहाँ खत्म होंगी कहना बेहद मुश्किल है. एक स्त्री…'

4 Comments 30 दृश्य

एक पाती उस पार…

एक पाती उस पार…

पता है; पूरे 18 साल होने को आये. एक पूरी पीढ़ी जवान हो गई. लोग कहते हैं दुनिया बदल गई. पर आपको तो ऊपर से साफ़ नजर आता…'

8 Comments 44 दृश्य

सर्वप्रिय प्रविष्ठियां

विश्वविद्यालय मुझे आकर्षित करते हैं – क्योंकि- विश्वविद्यालय  WWF  अखाड़ा नहीं, ज्ञान का समुन्दर होता है. जहाँ डुबकी लगाकर एक इंसान, समझदार, सभ्य…

कैलेंडर